Reality of Astrology : ज्योतिष का सच आइये जानते हैं कैसे?

Reality of Astrology ज्योतिष सीखे -आइये जानते हैं

Share with your freinds

Reality of Astrology , ज्योतिष Astrology –ज्योतिष वेद का ही भाग है इसका प्रमाण यही से मिलता है।यह ब्लॉग उन लोगों के लिए बहुत दिलचस्प होने वाला है। जिनको में काफी रूचि है। जो इसके Through वे आगे बढ़ना भी चाहते हैं । क्योंकि आज के Post में मैं उनके फायदे के लिए ज्योतिष से सम्बंधित दुर्लभ और Basic बातों को शेयर कर रहा हूँ । ज्योतिष का क्या है ?हम मानवों के जीवन में क्या Value रखता है ?

  1. ज्योतिष
  2. ज्योतिषशास्त्र(m)
  3. फलित ज्योतिष
  4. खगोल-विद्या

ज्योतिष Astrology क्या है ?

ज्योतिष Astrology – का उद्गम भी वेद से ही माना जाता है। मान्यतानुसार  वेद के Forehead में विराजित होने से ज्योतिष को वेद का आँख कहा गया है। ज्योतिष का शाब्दिक अर्थ प्रकाश होता है और जिस तरह प्रकाश से प्रकाशक, प्रकाशन, प्रकासित शब्द बने हैं।  उसी तरह ज्योति से ज्योतिष भी बना है इसीलिए ज्ञानीजनो ने ज्योतिष को ईश्वर प्रदत्त प्रकाश ही कहा है।

धर्म Religion  क्या है ?

धर्म Religion  – के लिए शास्त्रों ने कहा है, “ धारयति सः धर्म, “ अर्थात धारता है वह धर्म है।  “ धर्म विहीन नर पशुः।” अर्थात धर्म के बिना मनुष्य पशु Animal होता है। धर्म का शाब्दिक अर्थ रखना, To follow या पहनना होता है। धर्म को यदि हम Ladies पारदर्शी साड़ी मान लें तो ज्योतिष उस साड़ी का पेटीकोट है, और जिस तरह पेटीकोट के बिना पारदर्शी साड़ी बेमानी होती है Reality of Astrology ज्योतिष उसी तरह ज्योतिष के बिना धर्म भी Meaningless ही होता है ।

मानवहित के लिए धर्म, अर्थ, काम और मोक्ष

इन Questions का जबाब पाने के लिए आपको मेरे साथ अतीत में झांकना पड़ेगा । क्योंकि अतीत के गर्भ से वर्तमान निकलता है और वर्तमान के गर्भ में Future छुपा रहता है । हम Hindus के अतीत से जुड़े वेदशास्त्रों ने मानवहित के लिए धर्म, अर्थ, काम और मोक्ष आदि। Four Efforts की कामना किया है । वेदवाक्य स्वतः प्रमाण हैं, और Certificate का Certificate नहीं होता। (प्रमाण का प्रमाण नहीं होता हैं। जैसे कि छननी को भी छाना नहीं जाता है ।

Money, Sex और मोक्ष Salvation

अर्थ Money,  काम Sex और मोक्ष Salvation – आजकल के मानव वेद प्रदर्शित हैं। इनचार पुरुषार्थों में से प्रमुख धर्म का सिर्फ दिखावा करते फिर रहे हैं । मोक्ष को हासिये पर रख चुके हैं, कई लोग तो यह भी न जानते होंगे। कि मोक्ष आखिर है क्या चीज. ? अब बचे दो पुरुषार्थ अर्थ और काम इन्हीं दोनों कि पूर्ति के लिए लोग धर्म- नीति आदि। इन को दरकिनार करके  अधर्म- अनीति के येनकेन प्रकारेन हथकंडे को अपना चुके हैं। Reality of Astrology ज्योतिष का सच तो यही है।

इनसे जन्मे अपराध

  • धन Wealth को बटोरने के लिए – कई तरह के अपराध किया जा रहा हैं। जिनमे  घूसखोरी, चोरी- डकैती, घोटाला, Hacking और फिरौती के लिए अपहरण आदि Wealth को बटोरने के किया जा रहा है।
  • उसी तरह काम SEX पूर्ति के लिए – लोग पशुओं से भी बदतर पतित होकर बच्चियों से बलात्कार करने से बाज नहीं आ रहे  हैं ।
  • संसार में ज्यादातर अपराध wealth एवं Sex को ही लेकर हो रहे हैं। क्योंकि सबके जेहन में बस यही ख्याल है, “ बाप बड़ा न भैय्या सबसे बड़ा रुपैय्या।”

धन एक साधन है, संत कबीर ने कहा है “ सांई इतना दीजिये…

मानाकि धन एक साधन है पर वह प्रमुख साध्य Major provable नहीं है । संत कबीर ने कहा है “ सांई इतना दीजिये जामे कुटुम्ब समाय, मैं भी भूखा न रहूँ साधू न भूखा जाय।”  जबकि आजकल लोग इसका अर्थ उलट दिए हैं, “ सांई मोटर, बंगला, बैंक बैलेंस दीजिये तगड़ा जामे कुटुम्ब समाएँ , मैं ही तो क्या मेरे सात पीढ़ियाँ भी तर जाएँ।” इसीलिए आजकल लोगों के बीच Wealth के लिये ही इतना लुट खसोट का गलाकाट स्पर्धा चल रहा है ।

Astrologer के पास केवल  Wealth और Marital status को जानना चाहते है लोग :

Astrologer के पास खासकर लोग Wealth एवं Sex को  ही जानने के लिए ज्यादा आते और जाते हैं । धन के लिए वे अपना नौकरी, व्यापार या करियर और काम Sex के लिए अपना Marital status को जानना चाहते हैं । जिसमें Wealth ही प्रमुख होता है क्योंकि नौकरी मिलेगी तो छोकरी भी Automatic मिलेगी । व्यापार चलेगा तो रोकड़ा आएगा, तब विवाह हो जायेगा और उसके कुछेक साल बाद घर में “ सब धन धुरी समान लालरतन अनमोल धन को सम्भाल” वाली स्थिति हो जायेगी । आखिर एक अंधे Blind को और क्या चाहिए दो आँखे Two Eyes ही ना ?

Conclusion

साधु संत या हो फ़क़ीर सबको चाहिए धन जरुर।”

अर्थात धन के बिना दुनियां में एक इंच भी हिलना कठिन होता है । अतः गृहस्थ हो या साधु सभी को Wealth चाहिए ही। “एक सधे सब सधे “ के तर्ज पर आजकल धन ही सर्वोपरि है। उसे पाने के दो रास्ते ईमानदारी और बेईमानी का है ।

आशा करता हु आपको यह ब्लॉग Reality of Astrology ज्योतिष सीखे topic आपको पसंद आया होगा। के लिए बस इतना ही आपको मेरी जानकारी कैसे लगी कमेन्ट करके जरूर बताये।

धन्यवाद ! जयहिंद  ! नमस्कार


Share with your freinds

4 thoughts on “Reality of Astrology ज्योतिष सीखे -आइये जानते हैं”

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *